आपकी हर बीमारी का इलाज है रत्नों के पास!

489.jpg

लेखक: सोनू शर्मा

ब्रह्माण्ड में उदित होने वाले ग्रह अपनी ऊर्जा को छोड़ते है, प्रत्येक ग्रह का अपना अलग अलग रंग होता है । रत्न आकर्षक लगने के साथ साथ हमारे लिए बहुत उपयोगी होते है, यह ग्रहों से प्राप्त ऊर्जा का ग्रहण करते है  । इनको धारण करने से अनेक रोगों से बचाव किया जा सकता है ।

  • माणिक्य यानि रूबी सूर्य ग्रह का रत्न माना जाता है, इसको धारण करने से हर्निया, घाव, उदार शूल होने पर हमारा बचाव करता है तथा यह रक्तवृद्धि के लिए भी लाभदायक है ।

  • पन्ना यानि एमीराल्ड बुध ग्रह का रत्न है, यह दमा, पागलपन, मिर्गी, नज़र लगने आदि में धारण किया जाता है और यह स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए भी धारण किया जाता है ।

  • नीलम शनि ग्रह का परिचायक है, इसको धारण करने से भाग्य में वृद्धि होती है तथा दुर्घटनाओं से बचा जा सकता है और यह रत्न गठिया तथा नपुंसकता को भी ख़त्म करता है ।

  • हीरा शुक्र ग्रह का रत्न है, यह शरीर में धातु की दुर्बलता को दूर करता है । हीरे को पानी में डुबाने पर इसमें से किरणे निकलती है ।

  • पुखराज गुरु ग्रह का रत्न है, यह विष विरोधी होता है ।

  • मोती चन्द्रमा का रत्न है, यह हृदय रोग, मूर्छा, मिर्गी, पथरी, ज्वर, तनाव व स्नायु रोगों, उदर रोग में प्रयोग किया जाता है, इसकी विशेषता होती है की यदि इसमें छेद किया जाये तो दोनों ओर से समान छेद होता है ।

  • मूंगा मंगल ग्रह का रत्न है, यह भूत प्रेत, तूफान, बिजली आदि बाधाओं को दूर करने के लिए तथा उनके प्रभाव को नष्ट करने के लिए धारण किया जाता है ।


 

Contact us +91 8449920558
contact@starzspeak.com

Get updated with us