सिंधी कौन होते हैं,नाम के पीछे "आनी" क्यों लगाते हैं सिंधी!

838.JPG

लेखक: सोनू शर्मा

सिंधी लोग पाकिस्तान के सिंध प्रान्त में रहने वाले लोग हैए ये हिन्दू व बौद्ध धर्म को मानने वाले लोग है । जब भारत व पाकिस्तान का विभाजन हुआ तो जो लोग सिंध प्रान्त से भारत आए थे वे सिंधीकहलाए और जो लोग वहां रह गए उन्होंने मुस्लिम धर्म को अपना लिया था । भारत में इन लोगो को दिल्लीए मुंबईए अजमेर व बैंगलोर शहरों में बसाया गया । विदेशो में सिंधी लोग हांगकांगए मलेशिया व इंडोनेशिया में अधिक रहते है । वर्तमान में भारत में सिंधी लोगो की संख्या 38 लाख के करीब है । सिंधी लोगो की सबसे अधिक संख्या पाकिस्तान में है जो की मुस्लिम धर्म को मानने वाली है । सिंधी लोगो के भगवान झूलेलाल हैए यह लोग भगवान झूलेलाल का जन्मोत्सव चेटीचंड के रूप में मनाते है । ये लोग व्यवसाय के लिए जलमार्ग के माध्यम से यात्राएँ करते थे । समुद्र में तूफानए समुद्री लुटेरेए जीव जंतु इत्यादि  सेरक्षा के  लिए इनकी महिलाएं इनके  यात्रा पर जाने से पहले वरुण देवता की पूजाकरती थी और जब पुरुष वर्ग सकुशल  घर लौट आते थे तब चेटीचंड को उत्सव के रूप में मनाया जाता था। सिंधी लोग अपने नाम के पीछे आनी शब्द लगाते है जिसका अर्थ होता है अंश यानि ओरिजिन  । इस शब्द से पता चलता है की वह व्यक्ति किस ओरिजिन का है । सिंधी लोग व्यवसाय में बहुत कुशल होते है और इनकी व्यापर करने की समझ और क्षमता बहुत अच्छी होती है तभी सिंधी लोग अमीर होते है ।