पौष अमावस्या - 12 साल बाद बन रहा है अद्भुत संयोग!

743.jpg

लेखक: सोनू शर्मा

हिन्दू धर्म में पौष मास का बहुत महत्व है और यह मास आध्यात्मिक दृष्टि से बहुत ही शुभ और अच्छा माना जाता है हलाकि खर मास होने की वजह से इसमें शुभ कार्य नहीं किए जाते । पौष अमावस्या का दिन बहुत ही शुभ होता है इसीलिए इस दिन दान आदि का विशेष महत्व होता है ।

  • ऐसा तक़रीबन 12 साल बाद हुआ है की पौष मास में आई है सोमवती अमावस्या, 2017 में पौष सोमवती अमावस्या का दिन बहुत ही शुभ है। पिछले वर्ष पौष मास की दो-दो अमावस्याएं थी; जनवरी और दिसंबर 2016 में पौष अमावस्या की तिथि पड़ी थी और दूसरी तरफ 2015 में पौष अमावस्या की तिथि का संयोग ही नहीं बना था और उसपर ऐसा बहुत समय बाद हुआ है की सोमवती अमावस्या की तिथि भी उसी दिन हो । ऐसा बहुत ही मुश्किल और दुर्लभ होता है की सोमवती अमावस्या और पौष मास का संयोग एक ही दिन बने ।

  • 12 साल के बाद 2017 में सोमवार के दिन पौष अमावस्या की तिथि पड़ रही है, इससे पहले ऐसा 12 साल पहले 10 जनवरी 2005 में हुआ था जब सोमवार के दिन पौष मास और सोमवती अमावस्या की तिथि एक ही दिन पड़ी थी । इस वर्ष पौष अमावस्या 18 दिंसबर को सोमवार के दिन है।

  • अगली पौष अमावस्या का योग 5 जनवरी व 26 दिसबंर 2019 में बन सकता है लेकिन पौष अमावस्या और सोमवती अमावस्या एक साथ हो, ऐसा तक़रीबन अगले सात सालों बाद होगा ।