देवउठनी एकादशी के उपाय!

640.jpg

लेखक: सोनू शर्मा

प्रत्येक माह में दो एकादशी आती है लेकिन कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी का अपना अलग ही महत्व है। इस को देवउठनी एकादशी व प्रबोधनी एकादशी के नाम से जाना जाता है । ऐसी मान्यता है की भगवान विष्णु चार माह के शयन के बाद इस दिन उठते है और उनका विवाह तुलसी जी के साथ होता है

इसी दिन से शुभ कार्य जैसे विवाह इत्यादि भी प्रारम्भ हो जाते है, ऐसी मान्यता है की भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए कुछ उपाय किये जाते है -

१) इस दिन मंत्रो का जाप किया जाता है तथा अगले दिन ब्राह्मण को भोजन कराया जाता है तथा उन्हें दान दक्षिणा दी जाती है जिससे भगवान विष्णु प्रसन्न होते है ।

२) देवउठनी एकादशी की रात्रि को भजन आदि गाने चाहिए, सुभाषित स्त्रोत का पथ करना चाहिए, भगवत कथा इत्यादि सुनना शुभ होता है ।

३) यदि किसी व्यक्ति के कामो में रूकावट आ रही हो तो उन्हें विष्णु जी के मंदिर में बादाम व नारियल के गोले चढ़ाने से रुके काम जल्दी पूर्ण हो जाते है ।

४) भगवान विष्णु को खीर व सफ़ेद मिठाई बहुत पसंद है, तुलसी के पत्तो के साथ यदि यह विष्णु जी को एकादशी के दिन अर्पित की जाए तो धन की प्राप्ति होती है ।

५) सात कन्याओं को एकदशी के दिन घर पर बुला कर खीर के साथ भोजन कराने से जल्द ही नौकरी में प्रमोशन मिलता है ।

६) यदि आप विष्णु जी व लक्ष्मी जी को प्रसन्न करना चाहते है तो दक्षिणावर्ती शंख में जल भरकर विष्णु जी का अभिषेक करना चाहिए ।