नवरात्र के सातवे दिन माँ कालरात्रि दीर्घायु होने का देती है वरदान!

522.jpg

लेखिका : रजनीशा शर्मा

नवरात्रि के सातवे दिन माँ जगदम्बा के रौद्र स्वरूप माँ कालरात्रि की आराधना की जाती है | माँ कालरात्रि के विषय में तो सभी जानते है विशेषकर नकारात्मक प्रवृत्ति के लोग | माँ कालरात्रि का जन्म ही राक्षसों के संहार के लिए किया गया था | सभी देवताओ ने अपनी शक्तिया देकर माँ कालरात्रि को शास्त्रों से सुशोभित किया| माँ के अमावस की  रात्रि के समान काले वर्ण के कारण ही माँ को कालरात्रि कहा जाता है | माँ के सुंदर मुख की क्रोधाग्नि मात्र से ही राक्षसों का नाश हो जाता है | माँ कालरात्रि का स्वरूप इतना भयावह और रौद्र है की राक्षस सेना माँ को देख कर ही भाग गयी | माँ काली के तीन नेत्र है | माँ काली नरमुंडो की माला पहनती है | माँ अपने हाथ माँ खप्पर धारण करती है | रक्तबीज के संहार के लिए माँ को खप्पर की आवश्यकता पड़ी | उस राक्षस की रक्त की जितनी भी बूंदे पृथ्वी पर गिरती उतने ही भयावह राक्षस उत्पन्न हो जाते |  माँ ने उस भयावह दानव की गर्दन काटकर उसके रक्त को भूमि में गिराए बिना स्वयं ही ग्रहण कर लिया और उस दानव का अंत किया | माँ के दूसरे हाथ में भगवान शिव का चन्द्रहास है जिससे माँ कालरात्रि दानवो का नाश करती है |माँ कालरात्रि को तंत्र मंत्र की देवी कहा जाता है | माँ कालरात्रि का भयावह स्वरूप राक्षसों के लिए स्वयं कल है तो भक्तो के लिए अत्यंत शुभकारी जिस कारण माँ का एक नाम शुभंकरी भी है | माँ के लम्बे ,घने और रात्रि के समान फैले हुए केश है | माँ गधे की सवारी करती है |

                                                                          माँ कालरात्रि के पूजन से साधक मन सहस्रार चक्र में स्थित होता है |

   पूजन विधि -

                      माँ कालरात्रि की पूजा अर्धरात्रि में की जाती है | माँ को नीम्बू की माला चढाई जाती है | माँ कालरात्रि के पूजन के लिए सप्तमी के दिन टिल या सरसो के तेल की अखंड ज्योति जलानी चाहिए | माँ के स्रोत का या काली पुराण का पाठ करना चाहिए | माँ कालरात्रि के पूजन से अकाल मृत्यु का भय समाप्त हो जाता है | माँ का हर स्वरूप धन-धान्य , सुख  , ऐश्वर्य एवं वंश वृद्धि करता है |

  ध्यान मंत्र -

                     एकवेणी जपाकर्ण ,पूर्ण नग्ना खरास्थिता | लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी                                   तैलाभ्यक्तशरीरिणी |

                     वामपादोल्लसल्लोह ,लताकण्टकभूषणा | वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा                                       कालरात्रिभयंकरि ||

 

   पूजन मंत्र -

                    ॐ जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी | दुर्गा क्षमा शिवाधात्री स्वाहा                          स्वधा नमोस्तु ते |

                    जय त्वं देवी चामुण्डे जय भूतार्तिहारिणि | जय सर्वगते देवी कालरात्रि                                नमोस्तु ते ||