मिट्टी के रंग की शुभ-अशुभता से जानिए कहां करें भवन निर्माण|

1264.jpg

By: Megha

जिस प्रकार से मिट्टी का रंग जीवन शुभ- अशुभ फल देता है, उसी प्रकार से भवन निर्माण करने लिए भी उस जगह की मिट्टी के रंग के अनुसार निर्माण करना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार जिस रंग की मिट्टी की शुभ होती है उसी जगह पर घर, दुकान आदि का निर्माण करना चाहिए। तो चलिए आपकों बताते है किस रंग की मिट्टी की धरती पर भवन निर्माण करना चाहिए।


  1. सफेद मिट्टी के धरती पर भवन निर्माण

इस रंग की मिट्टी की जगह पर भवन निर्माण कर रहने वालों में धार्मिकता ,ज्ञान, बुद्धि, ऊंची और अच्छी सोच का विकास होता है। जिसमें नेक और अच्छी जिंदगी जीने की भावना रहती है।

  1. लाल या हल्की लाल मिट्टी की धरती पर भवन निर्माण

ऐसी जगह पर भवन निर्माण करना काफी शुभ माना जाता है। इस जगह पर मकान बनाकर रहने वाले लोग काफी जिद्दी और क्रेजी माने जाते है लेकिन ये बुद्धिमान होने के साथ कम सहनशील होता है। ये लोग अपना नुकसान उठाकर दूसरों की मदद करते हैं। इस धरती पर रहने वाले बहादुर और योद्धा होते है।


  1. पीली या हल्के रंग की मिट्टी पर भवन निर्माण करना-

इस रंग की धरती थोड़ी सी सख्त होती है लेकिन यह शुभ धरती होती है। इस मिट्टी का स्वाद शहद की सुगन्ध जैसा होता है। यहां रहने वाले बहुत जोड़-तोड़ करने वाले और सामान्यत घूमने के बहुत शौकीन होते हैं। यहां रहने वाले अपना छोटे से कारोबार को भी बड़ा कर लेते है।


  1. काली या हल्की मिट्टी पर भवन निर्माण करना-

यह धरती बेहद ही फलने -फूलने वाली धरती होती है लेकिन यहां मेहनत करने वाले ही जिंदगी में सारी सुख-सुविधाओं को हासिल करते है। पर एक बात यह भी सच है कि यहां रहने वाले लोग कुछ जिदंगी भर मेहनत करते है और दूसरे लोग उनसे यूं ही लाभ उठाते रहते हैं। इसलिए यहां काली मिट्टी की धरती को मेहनत का सूचक माना जाता है। औऱ यहां पर भवन निर्माण शुभदायक होता है।


  1. लाल और सफेद मिट्टी से मिश्रित रंग की मिट्टी पर भवन निर्माण-

यह बहुत ही अच्छी और शुभ मिट्टी मानी जाती है। इस धरती पर रहने वाले लोग बहुत बुद्धिमान्, ताकतवर, मजबूत होते हैं और देखा जाए तो यहां रहने वाले कमांडर होते है।

  1. गिली और नर्म मिट्टी पर भवन निर्माण करना

गिली मिट्टी पर भवन निर्माण करना बेहद ही अशुभ होता है। तालाब की मिट्टी के आस-पास की मिट्टी जो पानी सोखती है उस पर किसी भी प्रकार का घर , दुकान का निर्माण नहीं करना चाहिए। इस मिट्टी पर बने घर में रहने वाले बेहद ही दुखी रहते है। वास्तु के हिसाब से घर में क्लेश बना रहता है। और धन का बिना किसी कारण नाश भी हो जाता है।

  1. गंध वाली मिट्टी पर भवन का निर्माण –

जिस धरती की मिट्टी में बदबू या किसी भी प्रकार की गंध आती है तो वह भी अशुभ माना जाता है। ऐसी गंध वाली धरती पर भवन निर्माण कदापि नही करना चाहिए। इस घर में रहने वाले लोग मेहनत भी करते हुए दरिद्र होते है।फालतू कामों में पैसा खर्च करते है। बिना कारण के विवाद करते हैं।