रमज़ान में ना करे भूलकर भी ये १० काम!

1063.gif
लेखिका: शिक्षा सिंह

रमज़ान हर मुस्लिम के लिए सबसे पाक या यू कहे पवित्र माना जाता है | रमज़ान का पूरा महीना मुस्लिम समुदाय रोज़े रखकर अल्‍लाह की इबादत करते हैं | कहते हैं इस महीने में रोज़ादार को इफ्तार कराने वाले के गुनाह माफ़ हो जाते हैं |  

 जो लोग रोज़ अल्लाह की इबादत नहीं कर पाते ,वह रमज़ान में पूरे रोज़े रख अपने लिए अल्लाह से जन्नत मांगते है | रमजान के पूरे महीने कुछ खास बातों का ध्‍यान जरूर रखना चाहिए | और ये 10 काम भूल कर भी किसी को नहीं करना चाहिए |

 

१.     वैसे तो खुदा ने हमेशा ही एक सच्चे मुसलमान को ये हिदायत दी है की वो अपनी नज़रे हमेशा नीची रखे | परायी स्त्री की तरफ़ निगाहें ना उठाये | रमज़ान के मौके पर इस बात का ख़ास ख्याल रखना चाहिए की आप की नज़रे परायी स्त्री पर ना पड़े, हमेशा अपनी नज़रे नीची रखें और अगर आप किसी पर गलत नज़र डालते हैं तो आप को रोज़े का फल कभी नहीं मिलता |

 

२.     रमज़ान पर जितना हो सके अल्लाह को ही दिलो दिमाग में रखे | इस पुरे महीने ना ही किसी से झगड़ा करे और ना ही लड़ाई ,हमेशा अपनी आत्मा और मन को साफ़ और शांत रखें |क्योकि अगर आपने रोज़े के वक़्त गाली गलौज किया तो आप का रोज़ा रखना व्यर्थ है |

 

 

३.     इस्लाम में वैसे भी महिलाओं को नकाब की हिदायत दी गयी है और रोज़े के वक़्त इस बात का ख्याल पुरुषो को भी रखना है की वो शालीनता वाले कपड़े पहने |रमजान के वक़्त अपनी पोशाक पर आप को ख़ास ख्याल रखना है ,जादा भड़काऊ या फैशनेबल कपडे नहीं पहनने चाहिए |

 

४. रमज़ान हम इसी लिए रखते है ताकि हम गरीबो की भूख, उनकी तकलीफों को महसूस कर सके | इसलिए रमजान के पूरे महीने आप को जादा नहीं खाना  चाहिए सिर्फ उतना ही आहार ले जितने में आप को कमजोरी ना महसूस हो |और सबसे बड़ी बात की पूरे दिन खाने के बारे में ही ना सोचे ऐसा करने से आप का रोज़ा खराब हो जायेगा |

 

५.     इस पूरे महीने हर पल अपना ध्यान अल्लाह ताला की इबादत में रखें | बुजुर्गो की माने तो पैगम्बर मोहमद साहब बड़ी ही शालीनता से अपना जीवन जीते थे, आप को भी इस बात का ख़याल रखना चहिये |

 

६.     पैगम्बर साहब ने कहा था की किसी भी गलत इंसान का साथ देना ,झूठ बोलना ,अपने धर्म की निंदा करना और गलत संगत , ये सारी चीज़े आप के रोज़े को निस्तो नाबूत कर देती हैं | तो जितना हो सके इन सभी चीजों से बचे |

 

७.    रमज़ान में खुद पर संयम रखें | किसी भी प्रकार के यौवन कार्य और यौवन सोच से बचे |रमजान के पुरे महीने यौवन संभंध ना बनाये |रमजान का पूरा महीना आप को अपनी इच्छाओं पर नियंत्रण रखना चाहिय जो बेहद जरूरी है |

 

८.     रमज़ान के मौके पर ना ही अनैतिक कार्य करे और ना ही अश्लील बातें | और इस तरह के लोगो से भी आप को बचना चाहिए | ऐसा करने से आप को अल्लाह जन्नत नसीब करते है|

 

 

९.     रोज़े की सहरी में ज्‍यादा तला, मसालेदार, मीठा खाना नहीं खाना चाहिए | क्‍यूंकि ऐसे खाने से प्‍यास ज्‍यादा लगती है| कोशिश करे सहरी में ओटमील, दूध, ब्रेड और फल का सेवन जादा हो |

 

१०. रमज़ान के महीने में अल्‍लाह अपने बंदों पर ख़ास करम फरमाता है और उसकी हर जायज दुआ को कुबुल भी करता है | रमज़ान में जन्‍नत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं और जहन्‍नुम के दरवाजे बंद कर दिए जाते हैं