कर्नाटक विजय अभियान पर क्या कहते है श्री नरेंद्र मोदी जी के सितारे!

1049.jpg

लेखिका : रजनीशा शर्मा

                    कर्नाटक राज्य में चुनाव का माहौल बना हुआ है | न्यूज़ चैनल्स पर डिबेट शो और अन्य तरह के तर्को का विश्लेषण हो रहा है | कांग्रेस के लिए तो यह चुनाव करो या मरो का प्रश्न बना है | सदैव गांधी जी के नाम के साथ राजनीति करने वाले  नेहरू जी ने यह नहीं सोचा होगा की भविष्य में भी अपने परिवार को राजनीति में बनाये रखने के लिए उन्हें गांधी के ही शब्दों की आवश्यकता पड़ेगी | अभी तक के लेखो के बारे में बात करे या लाइव विश्लेषणों को देखे तो मोदी जी ही आने वाले हर चुनाव के विजयी नायक है | कई भविष्यवक्ताओ ने भी यह स्पष्ट कर दिया है की जीत का श्रेय मोदी जी को ही मिलेगा | इसके जमीनी स्तर पर भी कई कारण है | इस समय देश में सत्ता विरोधी लहर चल रही है | उत्तर प्रदेश और पंजाब इसके अच्छे उदाहरण है | प्र्धानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में बीजेपी इस समय पूर्ण संगठित है | बीजेपी के पास निःस्वार्थ भाव से बिना वेतन लिए कार्य करने वाले कार्यकर्ता है | जबकि कांग्रेस अपनी अस्पष्ट नीति  के कारण अपने ही लोगो का विशवास खोती जा रही है | कांग्रेस के पराजय की सबसे बड़ी वजह उनके पास कुशल शीर्ष नेतृत्व का ना होना भी है | राहुल गांधी प्रधान मंत्री श्री मोदी जी के अनुभव एवं बौद्धिक क्षमता के आगे कहीं टिकते नजर नहीं आते | श्री अमित शाह की कुशल चाणक्य नीति ने कांग्रेस के दिग्गजों को भी धूल चटा दी है | प्रधानमंत्री ने स्वयं प्रचार प्रसार की बागडोर संभाली है जिसका असर हम पिछले चुनावो से देखते चले आ रहे है |


 क्या कहती है मोदी जी की कुंडली -                                                                                              

नरेंद्र मोदी जी की कुंडली वृश्चिक लग्न की है ज्योतिष में इस राशि को चंद्र और मंगल दोनों से प्रभावित माना जाता है | यह राशि बुद्धिमान राशि मानी जाती है | वृश्चिक लग्न में चंद्र कमजोर होता है किन्तु नौवे घर में चंद्र को शक्ति प्राप्त हो जाती है और मंगल के कारण के नकारात्मक प्रभाव भी कम हो जाते है | श्री मोदी जी की कुंडली में गुरु का स्थान चौथे खाने में है इस कारण वे ग्रह त्यागी है | यह शुक्र के  अधिक प्रभाव की कुंडली है और शनि भी व्ही होने के कारण राजयोग प्राप्त होता है | उनकी कुंडली में मजबूत बुद्ध उनके विचारो को मजबूत और प्रभावी बनता है | कुंडली में अग्नि तत्व के मजबूत होने के कारण जीवन में संघर्ष बढ़ जाता है | 18 अप्रैल के बाद शनि वक्री हो रहे है जिस कारण जानकारों का मानना है की राजनीति में बड़ी उथल पुथल हो सकती है | वृश्चिक राशि में शनि की दृष्टि चौथे , आठवे और ग्यारहवे घर में पड़ रही है | इससे लाभ के संकेत कम ही दिख रहे है |


क्या कहती है राहुल गांधी की कुंडली -

यदि राहुल गांधी की कुंडली का विश्लेषण करे तो इनका भ्ग्येश अष्टम भाव में है जो एक खराब स्थिति है और बुद्धि को प्रभावित करता है | इसी कारण इन्हे इनकी मेहनत का इच्छित परिणाम प्राप्त नहीं होता | इनका गुरु वक्रीय होकर विराजमान है | जो बहुत ही घातक स्थिति मानी जाती है इस कारण इनके यश , बुद्धि एवं ज्ञान में कमी हो रही है | गुरुकी नवम दृष्टि के कारण वे अपने प्रतिद्व्न्दियो का कुछ बिगाड़ नहीं पाते और उनके प्रतिस्पर्धी उन पर हावी रहते है | इसी प्रकार के उनके कुंडली दोषो का लाभ उनके विपक्षी उठा रहे है और उसका नुक्सान कांग्रेस पार्टी |


                                                 इन कुंडलियों को देख कर तो लगता है की यदि यह राहुल गांधी ने जीत दिलाने  का प्रयास किया तो इसका फायदा भी विपक्ष को ही मिलेगा |